लाइन में लगते ही कटती है जेब, ठगे रह जाते हैं मरीज और परिजन

0
216

सूरतगढ़| सरकारीअस्पताल में मरीजों उनके परिजनों की जेब तराशने की वारदातों का सिलसिला थमा नहीं है। अस्पताल में आए दिन होने वाली जेब कटने की वारदातों से मरीज उनके परिजन भयभीत हैं, वे इलाज के लिए रुपए लाते हैं और चंद मिनटों में जेब से रुपए गायब हो जाते हैं। दो माह में 7 वारदातें होने पर अस्पताल प्रशासन गंभीर नहीं हैं। जेबतराश बदमाश एक दिन में 3 वारदातों को अंजाम देते हुए नकदी महिला के गले से ओम चुरा कर ले गए। घंटों बदमाशों की इधर-उधर तलाश करने पर उनका कोई सुराग नहीं लगा। गांव 8 एसएचपीडी से सोमवार को अस्पताल में इलाज करवाने आए मामराज पुत्र मनीराम कस्वा ने सुबह साढ़े 11 बजे ओपीडी विंडों पर पर्ची कटवाने के लिए कतार में खड़ा था। पर्ची कटने के बाद 10 रुपए देने के लिए जेब से पर्स निकाला तो पर्स में रखे 20 हजार रुपए, ड्राईविंग लाइसेंस, बेटी का आधारकार्ड, पेनकार्ड अन्य जरूरी कागजात गायब थे। गांव मानकथेड़ी के अमरसिंह पुत्र लाधूराम जो अस्पताल में खुद के स्वास्थ्य की जांच करवाने आया था, कि ओपीडी विंडों पर जेब से 7 हजार रुपए गायब हो गए। कतार में लगी महिला ने बताया कि उसके गले से सोने का ओम कोई निकाल कर ले गया। 21 अक्टूबर को एक टेपों चालक की जेब से 9 हजार रुपए पार हो गए थे। जेब काटने की वारदाते पिछले 2 माह से जारी है, पर अभी तक एक भी बदमाश पकड़ा नहीं गया।

पीड़ित मामराज

सीसीटीवी डॉक्टर्स चैंबर्स विंडों के सामने लगाया है

^अस्पतालमें लगे सीसीटीवी कैमरों की लोकेशन बदली है। एक कैमरा ओपीडी विंडों के सामने एक कैमरा डॉक्टर्स चैंबर्स की गेलेरी मे लगाया है। सिटी थाने में जाकर सीआई को अस्पताल में जेब कटने की वारदातों से अवगत करवाया है। अस्पता लमें जल्द ही 2-3 नये सीसीटीवी कैमरे लगाए जाएंगे ताकि बदमाश पकड़ में सके। डॉ.दर्शनसिंह, सरकारी अस्पताल प्रभारी सूरतगढ़

LEAVE A REPLY