Skip to content Skip to left sidebar Skip to right sidebar Skip to footer

Famous Person

पूनम रामकरण प्रजापति

आज हम शहर की एक ऐसी शख्सियत से रूबरू होंगे जिन्होंने सामाजिक कार्यों की बदौलत राष्ट्र के साथ-साथ अंतरराष्ट्रीय ख्याति भी प्राप्त की है

आपके कार्यों का हर एक कदम गरीब असहाय की सेवा और भारतीय विकास के मसीहा के रूप में रहा है…

अपनी कड़ी मेहनत, त्याग, निराश्रित की दुआओं की बदौलत आपने वह मुकाम पाया है जो हर किसी के लिए संभव नहीं है

आपकी दैनिक दिनचर्या में सूर्योदय गरीब बच्चों की सहायतार्थ और सूर्यास्त भी सामाजिक सेवा में ही होता है

आपने अपने जागरूक अभियानों के बल पर सरकारी योजनाओं का लाभ उन तक पहुंचाया है जिन्हें इनकी वास्तविक आवश्यकता होती है आपके समय-समय पर जागरूकता अभियान का ही परिणाम है कि ग्रामीण महिला बच्चे बुजुर्ग भी अपने अधिकार के बारे में बखूबी जानने लगे हैं

अपने नैतिक सामाजिक कर्तव्य का पालन करते हुए आपको विभिन्न स्तर पर राजकीय राष्ट्रीय अंतरराष्ट्रीय सम्मान एवं पुरस्कार से नवाजा गया है

आपने पूनम फाउंडेशन शिक्षा अभियान के तहत हर शहर हर गांव में एंबेस्डर नियुक्त किए ताकि धरातल पर दीन दुखी असहाय गरीब परिवार की मदद की जा सके

यदि आपको प्राप्त हुए पुरस्कारों की बात की जाए तो उस पर पूरी किताब लिखी जा सकती है जो कि इस फेसबुक पेज पर लिखना असंभव है…

आप नाइजीरिया के चांसलर द्वारा चौधरी आर्ट ट्रस्ट के सौजन्य से मानद पीएचडी (डॉक्टरेट) उपाधि से विभूषित है.

आपने हजारों असहाय बच्चों जरूरतमंद बच्चों को स्टेशनरी जूते स्वेटर कपड़े उपलब्ध करवाएं और उन्हें निशुल्क शिक्षा अभियान से जोड़कर शहर ही नहीं बल्कि पूरे भारतवर्ष का गौरव बनाए रखने में अनुकरणीय योगदान दिया है

आपने और श्री रामकरण जी पत्रकार ने अपने विवाह बंधन में भी अतिथियों को पौधे वितरित कर अपने विवाह को ऐतिहासिक बनाया जिससे शहर को एक नई परंपरा देखने को मिली…

आपने शिक्षा अभियान/शैक्षिक गतिविधियों के अंतर्गत 2019 में बेस्ट टीचर ऑफ द ईयर का अवार्ड प्राप्त किया…

ग्रामीण महिलाओं और बच्चों को जागरूक कर महिला सशक्तिकरण में आपने अपनी प्रमुख भूमिका निभाई है

बच्चों को निशुल्क शिक्षा के साथ-साथ आपने शिक्षा सामग्री भेंट कर निरक्षरता रूपी अंधेरे के मध्य प्रकाशपुंज स्थापित किया है

चेहरे पर तेज, मुश्किल घड़ी में भी मुस्कुराना, हमेशा दूसरों का भला करना, भारतीय नारी के प्रत्येक गुण से अलंकृत आपकी विशेषता आपके व्यक्तित्व को और अधिक निखारती है

अपनी कड़ी मेहनत, लगन, त्याग, निराश्रित की दुआओं की बदौलत आज सूरतगढ़ शहर का नाम जागरूकता/ नारी शक्ति/ ग्रामीण विकास के मामले में अव्वल श्रेणी पर विराजमान है आपके नैतिक/ सामाजिक/ शैक्षणिक कार्यों को हमेशा सूरतगढ़ शहर के सुनहरे इतिहास में याद रखा जाएगा…

धन्यवाद..!

डॉ अवि जी गर्ग ( RAS उपखंड मजिस्ट्रेट)

स्वागत है.. डॉ अवि जी गर्ग ( RAS उपखंड मजिस्ट्रेट)
आज हम शहर की एक ऐसी शख्सियत से रूबरू होंगे जिन्होंने शिक्षा के क्षेत्र में न केवल एक अद्वितीय मुकाम हासिल किया बल्कि सूरतगढ़ शहर को राजस्थान में शिक्षा के क्षेत्र में शीर्ष स्थान दिलवाने में अपनी अहम भूमिका निभाई

Read More

करणीदान सिंह राजपूत

स्वागत है…..श्री करणी दान सिंह जी राजपूत (वरिष्ठ पत्रकार)
आज हम ऐसी शख्सियत से रूबरू होंगे जिन्होंने साहित्य एवं पत्रकारिता के क्षेत्र में अपने आदर्श विचारों द्वारा अपनी कलम को सत्यता की स्याही पर चलाकर शहर को इस क्षेत्र में अग्रणी बनाया

शहर के सबसे वरिष्ठ पत्रकार श्री करणी दान सिंह जी राजपूत ने अपना पूर्ण जीवन साहित्य एवं पत्रकारिता को समर्पित किया है

पत्रकारिता वह चीज है जो लोकतंत्र को चलाए रखने के लिए जरूरी है।” …

आपके आदर्शवादी विचार दूरगामी फैसले के साथ-साथ शहर के हरे मुद्दों एवं खबरों को जन-जन तक पहुंचाया यही कारण है कि सूरतगढ़ शहर आज साहित्य क्षेत्र में भी अपनी अलग पहचान बनाए हुए हैं

वर्तमान में भी आप 74 वर्ष की उम्र में भी पत्रकारिता पर अनवरत कार्य कर रहे हैं एवं ऑनलाइन करणी प्रेस इंडिया के द्वारा शहर के विभिन्न समाचारों को प्रकाशित किया जा रहा है इसके अतिरिक्त आपके द्वारा लिखी गई कविताएं भी अपना एक अलग स्थान रखते हैं आप राजस्थान पत्रिका के प्रधान संपादक भी रहे हैं

आपने निर्भीकता सटीक एवं सत्यता पर हर एक मुद्दे को अपनी कलम से लिखा एवं भ्रष्टाचार, अन्याय के खिलाफ सूरतगढ़ की आवाज बने….

राजस्थान सरकार ने वरिष्ठ पत्रकार सम्मान में आपका चयन किया
वरिष्ठ अधिस्वीकृत स्वतंत्र पत्रकार सम्मान योजना के तहत सम्मान निधि प्रदान की जाती है। यह सम्मान निधि हर माह सीधे बैंक में पहुंचती है।
मुख्यमंत्री अशोक गहलोत ने अपने बजट में वरिष्ठ पत्रकारों को सम्मान प्रदान करने की योजना शुरू की है, उसी के तहत यह चयन हुआ है
श्री करणी दान जी राजपूत 74 साल के हैं और राजस्थान और देश के विभिन्न प्रांतों से प्रकाशित होने वाले अखबारों और पत्रिकाओं में पिछले करीब 55 सालों से लिख रहे हैं।

श्री राजपूत राजस्थान पत्रिका में कड़वा मीठा सच्च स्तंभ में राज्य स्तरीय प्रथम पुरस्कार 3 बार प्राप्त कर चुके हैं।
राजपूत को शिक्षा संत स्वामी केशवानंद द्वारा स्थापित ग्रामोत्थान विद्यापीठ संगरिया की ओर से भी पत्रकारिता सम्मान 1997 में प्राप्त हुआ था।

प्रो.ललित किशोर चतुर्वेदी स्मृति संस्था जयपुर की ओर से समारोह में आपको राजस्थान गौरव सेवा सम्मान से 4 अगस्त 2019 को रवींद्र मंच पर सम्मानित किया गया था।

प्रतिष्ठित, मेहनती, जुझारू, पत्रकारिता के पुरोधा आदि विशेषताएं आपके आदर्शवादी सिद्धांतों को और अधिक मनोबल प्रदान करती हैं

सूरतगढ़ शहर को पत्रकारिता के क्षेत्र में बुलंदियों तक ले जाने में आपका योगदान सराहनीय है सूरतगढ़ शहर की तरफ से राष्ट्र के गौरव को सलाम।।।

धन्यवाद…!!